भारत में बैंक खाते कितने प्रकार के होते है ?

0
249

बैंक खाते भारत में लगभग 10 तरीके के होते है, आज सभी को Bank Account बहुत जरुरी हो गया है, जब आप बैंक में जाते है तो आप कंफ्यूज होते है की मुझे कौन सा बैंक खाता खुलवाना है और मुझे इसका क्या लाभ होगा. हम सभी खातो के बारे में जाने गा, कौन सा हमारे लिए बेस्ट आप्शन रहेगा.

बैंक खाता खुलवाने से पहले जाने, कितने प्रकार के होते है खाते और कौन सा आप के काम का

types of bank account
Bank Account

हमरे देश में बैंक लगभग 200 सालो से है मगर आजकल हर काम के लिए बैंक खाते होना जरुरी है जैसे आधार बनवाने, पैन कार्ड, आईटी Return, EPF क्लेम करने, सब्सिडी की लिए. हम बैंक में खाता खुलवाने जा रहे है तो हमें पता होना चहिये कौन से खाता हमारे लिए सही है, चलो हम जानते है खाते कितने प्रकार के होते है और हमारे लिए कौन सा सही है. जाने, बैंक खाते से Aadhaar Card को कैसे लिंक करे, जाने सबसे आसान तरीका

बैंक खाते के प्रकार

  1. बचत खाता -Saving Account
  2. चालू खाता- Current Account
  3. आवर्ती जमा खाता – Recurring Deposit Account
  4. सावधि जमा खाता -Fixed Deposit Account
  5. सैलरी अकाउंट -Salary Account
  6. NRI खाता
  7. वरिष्ठ नागरिक बचत बैंक खाता
  8. वुमन सेविंग अकाउंट
  9. नो फ्रिल बचत खाता
  10. स्टूडेंट बचत खाता

बचत खाता -Saving Account

यह एक नियमित बचत खाता होता है, नार्मल सभी लोग सेविंग अकाउंट से खुलवाते है. आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट बैंक में जाकर ये खुलवा सकते है.इस अकाउंट में आप को कुछ न्यूनतम राशि रखनी होती है जो सबी बैंक में अलग अलग है. या खाता आप अकेले, दो लोग या ग्रुप में भी खुलवा सकते है. इसमें आप कभी भी पैसे निकाल और जमा कर सकते है. इसमें आप को पासबुक, एटीएम ATM, चेकबुक मिलती है या आप लेनदेन के तरीके जैसे डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, चेक, डिमांड ड्राफ्ट, NEFT, RTGS, IMPS, AePS ,मोबाइल या नेट बैंकिंग का भी प्रयोग कर सकते है. इसमें आपको डेबिट और क्रेडिट कार्ड दोनों ऑफर मिलते है. आप को डेबिट और क्रेडिट कार्ड में अंतर पता होना चहिये.

Saving Account
Saving Account

चालू खाता- Current Account

यह खाता बड़े व्यवसायी, फर्म, कंपनियों और संस्थान जैसे स्कूल, कॉलेज, और अस्पतालों, बड़ी दुकान आदि के लिए होता है. इस खाते में आप कितनी बार भी पैसे निकाल या जमा कर सकते हो , इसमें कोई लिमिट नही होती. इस खाते में कोई ब्याज नही मिलता है बल्कि खाता धारक को ही हर साल कुछ का बैंक को भुगतान करना पड़ता है.

आवर्ती जमा खाता – Recurring Deposit Account

उन लोगो के लिए ये खाता सही है जो नियमित बचत कर सकते है और एक नियमित राशि हर महीने या एक निश्चित अवधि के लिए जमा कर सकते है. इसमें खाता धारक को तय अवधि पूरी होने पर पूरी राशि ब्याज के साथ लोटा दी जाती है. इसमें ब्याज बचत खाते से जयादा परन्तु सावधि जमा खाता -Fixed Deposit Account से कम होता है . इसे RD अकाउंट कहते है.

सावधि जमा खाता -Fixed Deposit Account

इसको हम FD अकाउंट भी बोलते है. जिस के पास बहुत पैसे होते है और वो शेयर बाज़ार में निवेश न कर के, कुछ फिक्स्ड राशि लम्बी अवधि जैसे 1 साल से 10 सालो तक के लिए जमा करवा सकता है . इसमें ब्याज सबसे जयादा मिलता है. खाता धारक अवधि से पहले पैसे निकलना चाहता है तो बैंक कुछ पेनाल्टी लगा कर , पूरी राशि ब्याज के साथ लोटा देता है.

Fixed Deposit Account
Fixed Deposit Account

सैलरी अकाउंट -Salary bank Account

जैसे की नाम से ही पता चल रहा हे ये खाते कंपनी अपने कर्मचारी का सैलरी के लिए खुलवाते है. इस खाते में न्यूनतम राशि की जरूरत नही होती.कंपनी का किसी खास बैंक से टाई उप होता है. जिससे की सभी कर्मचारियों का खाता उसी बैंक में होता है.

NRI Bank Account

विदेश में रह रहे भारतीय और भारतीय मूल के लोगो के लिए होते है. इनको NRI अकाउंट और विदेशी खाते भी कहते है. ये दो प्रकार के होते है NRE और NRO. आजकल जहां NRI लोग जयादा होते है वहीं पर NRI के लिए अलग से बैंक शाखाओं को खोला गया है.

वरिष्ठ नागरिक बचत खाता

ये खाता सिर्फ 60 साल से ऊपर के वरिष्ठ नागरिको के लिए खोला जाता है. इसमें खाते में कई लाभ होते है जैसे – होम सर्विस, जयादा ब्याज.ये एक बचत bank account होता है.

वुमन सेविंग अकाउंट Bank Account

sअभी बैंक में ये अकाउंट नही होते है. कुछ बैंक ही महिलाओ के उत्थान, विकास. वितीय जरुरतो, निवेश और जीवन शैली की जरुरतो को पूरा करने के लिए ऐसे अकाउंट खोले जाते है. इन खातो पर खास ऑफर और कैशबैक दियें जातें है.

नो फ्रिल बचत खाता

इस अकाउंट में कोई मिनिमम बैलेंस रखने की कोई जरूरत नही होती. इन अकाउंट पर लिमिट भी होती है.जो सभी बैंक में अलग अलग है.

स्टूडेंट बचत Bank Account

कुछ बैंक स्टूडेंट्स के लिए बचत खाते खोलने के लिए खास ऑफर देते है. इसमें मिनिमम बैलेंस नही रखना होता. सभी बैंक के नियम अलग अलग है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.